Spike Anti Tank Guided Missile (US Javelin Missile) : ये मिसाइल ध्वस्त करने तक नहीं छोड़ेगी पीछा, बस टारगेट की तरफ एक बार दाग दो

Spike Anti Tank Guided Missile (US Javelin Missile)
source wikipedia

आज हम आपको बताने जा रहे हैं Spike Anti Tank Guided Missile (US Javelin Missile) एक ऐसी मिसाइल के बारे में जिसे बस टारगेट की तरफ एक बार दाग दो ये तब तक पीछा नहीं छोड़ेगी जब तक की टारगेट को ध्वस्त न करदे |

इस मिसाईल का करिश्मा दुनिया ने तब देखा था जब रूसी सेना के टैंक, हेलिकॉप्टर और बख्तरबंद वाहन जब यूक्रेन में घुसे थे तब वहां हाहाकार मच गया था | उसके बाद ऐसे कई ऐसे वीडियो सामने आए जिनमें अचानक एक जगह से एक मिसाइल इन्हें बर्बाद कर देती है |ये मिसाइल थी अमेरिकन जैवलिन मिसाइल (US Javelin Missile)

source wikipedia

यह मिसाइल छोटी लेकिन घातक होती है | इसे कंधे से, ट्राईपॉड से या फिर बाईपॉड से इसे भी दागा जा सकता है | इस मिसाइल को टैंक पर तैनात किया जा सकता है या फिर किसी इमारत से Urban Warfare में उपयोग किया जा सकता है या फिर हेलिकॉप्टर में लगाया जा सकता है |

लेकिन चीन के साथ सीमा विवाद के समय भारत ने इजरायल से इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए कुछ मिसाइलों की छोटी छोटी खेप मंगाई थी |

इनकी तकनीक इतनी अच्छी है कि टारगेट न भाग सकता है न छिप सकता है | यह उसे नष्ट करने तक उसका पीछा करती रहती है | यानी टारगेट सेट करो दागो और भूल जाओ |

इस अचूक मारक मिसाइल का नाम है स्पाइक एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल (Spike Anti-Tank Guided Missile – Spike ATGMs)

इजरायल इनका इस्तेमाल 1981 से कर रहा है | इनका इस्तेमाल दुनिया के 35 देश कर रहे हैं | इनका इस्तेमाल 1982 से लेकर अब तक 6 से 7 बड़े युद्धों में किया जा चुका है |

इनका निर्माण किया था राफेल एडवांस डिफेंस सिस्टम ने | साल 2017 से लेकर अब तक इसके 28,500 यूनिट्स बनाए जा चुके हैं | 2019 के आरंभ में चीन और पाकिस्तान के साथ होने वाले संघर्षों के मद्देनज़र रखते हुए भारत सरकार ने आपातकालीन स्थिति में 240 स्पाइक MR मिसाइल और 12 लॉन्चर्स इसराइल से मंगाए थे|

फिलहाल ऐसी रिपोर्ट्स हैं कि भारत सरकार को ऐसी और मिसाइलें मिली हैं.  कुल मिलाकर 321 लॉन्चर्स और 8356 मिसाइल और 15 ट्रेनिंग सिमुलेटर्स की डील की थी|

अब जब ये ताकत भारतीय सेना के पास आ चुकी है | अब सेना इसका इस्तेमाल दुश्मनों के टैंक जैसे उपकरणों को ध्वस्त करने में क्र सकती है | इसके अलावा य कम ऊंचाई पर उड़ रहे हेलीकॉप्टर और लड़ाकू विमानों को भी मार गिरा सकती हैं |

source: wikipidea

Spike ATGMs के कुल मिलाकर 9 वैरिएंट्स हैं | 1. Spike-SR 2. Spike-MR 3. Spike-LR 4. Spike-LR2 5. Spike-ER 6. Spike-ER2 7. Spike NLOS 8. Mini-Spike और 9. Almas |

अगर इन्हें Helicopter में तैनात करते हैं तो कैनिस्टर में रखी मिसाइल का वजन होता है 34 kg, लॉन्चर का 55 किलोग्राम और लॉन्चर के साथ चार मिसाइलों का वजन होता है 187kg | जबकि जमीन से दागी जाने वाली स्पाइक मिसाइल का वजन होता है 14kg+5kg लॉन्चर + 2.5kg tripod+ 1kg battery+ थर्मल साइट 4kg |

source: wikipedia

Spike ATGMs की लंबाई आमतौर पर 3 फीट 11 इंच होती है | वैरिएंट्स के अनुसार लम्बाई थोड़ा-बहुत कम ज्यादा हो सकती है| तेजी से इसकी फायरिंग करने केलिए पूरा सिस्टम लॉन्च के लिए तैयार होने में मात्र 30 सेकेंड का समय लेता है और 15 सेकंड में रीलोड हो जाता है | इस Spike ATGMs सिस्टम के अलग-अलग वैरिएंट्स रेंज के अनुसार आते हैं |

Spike-SR की रेंज है 50 से 1500 मीटर, Spike-MR की रेंज है 200 से 2500 मीटर, Spike-LR की रेंज है 200 से 4000 मीटर, Spike-LR2 की रेंज है 200 से 5000 मीटर Spike-ER की रेंज है 400 से 8000 मीटर, Spike-ER2 की रेंज है 400 से 10 हजार मीटर और Spike NLOS की रेंज है 600 से 25 हजार मीटर |

रिपोर्ट्स के मुताबिक भारतीय वायुसेना अपने हेलिकॉप्टर्स केलिए Spike NLOS चाहती है |

Spike ATGMs में टैंडेम चार्ज HEAT Warhead लगाया जाता है. जिसके पीछे एक सॉलिड प्रॉपेलेंट रॉकेट उसे टारगेट तक पहुंचाता है| इसमें इंफ्रारेड होमिंग- इलेक्ट्रो ऑप्टिकल सीकर लगा होता है, जो दुश्मन को किसी भी मौसम और अंधेरे में भी खोज सकता है | यानी यह टारगेट से निकल रही गर्मी को पकड़कर उसका पीछा करता है |

सरकार ने साल 2019 में इज़राइल के साथ Spike – LR मिसाईल की डील की थी |

source: wikipedia

यह 4th generation की मिसाईल है जो चार किलोमीटर तक की दूरी पर सटीक निशाना लगा सकती है |
मिसाइल में फायर करने की क्षमता, निगरानी व अपडेट करने की क्षमता है, जो पिनप्वाइंट पर फायर करने की सुविधा देती है |  यह मिसाइल मध्य उड़ान के दौरान कई लक्ष्यों के लिए स्विच करने की क्षमता रखती है. इसे फायर करने वाले व्यक्ति के पास इसे Low या High ट्रजेक्टरी से फायर करने का विकल्प होता है |

मिसाइल में एक Inbuilt Seeker होता है, जो इसे फायर करने वालों को दो Mode में इस्तेमाल करने की सुविधा देता है | यानी दिन (CCD) व रात (IIR ) मोड शामिल है | Dual Seeker मिसाइल की विश्वसनीयता को बढ़ाता है |